फेशियल क्या है.इससे आपका चेहरा दमक उठेगा.

0
56
views
आज से कुछ साल पहले सिर्फ खास मौके पर ही फेशियल करवाने के बारे में सोचा जाता था.पर अब ऐसा नही रहा.फेशियल अब खुबशुरती निखारने का एक अहम्  माध्यम बन गया है.आज मैं आपको फेशियल से जुड़ी जानकारी दूंगा.

अपने फेशियल कई बार बार कराया होगा.कोई महंगा फेशियल कराते समय उसकी कीमत थोड़ी-भुत देर के लिए आपकी आँखो में खटकी भी होगी.लेकिन क्या कभी आपने 38 लाख रूपये के फेशियल के बारे में सुना है.दुनिया के सबसे महंगे फेशियल में शुमार ‘केट मिडिल्टनस बी बेनॉम फेशियल’और इसी तरह के कुछ अन्य फेशियल की कीमत 50 हज़ार रूपये से शुरू होती है और लाखो तक जाती है.

फेशियल ट्रीटमेंट

देश – विदेश में किये जाने वाला फेशियल और ब्यूटी ट्रीटमेंट की दुनिया इतने विक्लपो से भरी है.जिसके बारे में जितनी बाटे की जाये कम है.लेकिन इतनी भरी कीमत चुकाने के बाद भी क्या इस तरह के फेशियल और स्किन ट्रीटमेंट वाकई फायदेमंद होते है?अपने अक्सर सुना होगा की किसी ने कोई खाश ब्यूटी ट्रीटमेंट करवाया और उसकी खूबसूरती निखारने की जगह बिगड़ ही गयी.नतीजा कई हप्तो तक वह अपने घर से बाहर ही नही निकली.आपके साथ ऐसा नही हो.इसलिए फेशिअल करवाने से पहले उससे  जुड़ी अपनी जानकारी जरूर ले.

फेशियल क्या होता है.

देशी भाषा में कहे तो फेशियल.आपके चेहरे के त्वचा को गहराई से साफ करने से एक तरीका है.पुराने जवाने महिलाये बेसन ,चन्दन,फूलो अदि से बने उबटन से अपनी त्वचा की खूबसूरती निखरती थी.आज इस घरेलु उबटन की जगह फेशियल ने ले ली है.फेशियल ने केवल चेहरे की मृत त्वचा हटाता है.बल्कि अन्य अशुद्धियों को दूर करके चेहरे को मुलायम और चमकदार बनाता है.इस पूरी प्रक्रिया के दौरान भाप,क्रीम,फेशियल मास्क और मसाज जैसे तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है.

पार्लर और क्लिनिक वाले फेशियल में अंतर
आमतौर पर महिलाये beauty पार्लर में जाकर अपनी जरूरत और बजट के हिसाब से फेशियल का चुनाव करती है.लेकिन क्या आप जानती है की पार्लर में किया जाने वाले फेशियल और किसी क्लिनिक में किये जाने वाले फेशियल ट्रीटमेंट में जमीन आसमान का अंतर है.लेकिन दोनों का मुख्य काम चेहरे की त्वचा को सेहदमंद बनाना होता है.लेकिन दोनों की प्रक्रिया ,प्रभाव,परिणाम और कीमत में काफी अंतर होता है.हालांकि खूबसूरती के बढ़ते बाजार को देखते हुए अब गली -मोहल्ले में खुले पार्लर भी उच्य गुणवत्ता वाले सौंदर्य का इस्तेमाल करने लगे है.लेकिन फिर skin क्लिनिक में दिए जाने वाले फेशियल ज्यादा प्रभावी होते है.

कौन सा है बेहतर

सैलून फैशिअल:-यहां दिया जाने वाला फेशियल आमतौर पर सामान्य तरीके का होता है.जिसका मुख़्य उद्देश् चेहरे की मृत्य कोशिकाओं और टेन को हटाना होता है.इस तरह का फेशियल करवाने के बाद अपभुत आराम और तरोताजा महसूस करेंगी. ब्यूटी पार्लर में किया जाने वला फेशियल ,त्वचा को मुलायम और साफ बना देता है.यह प्रक्रिया करीब एक घंटे चलती है.जिसमे त्वचा की प्रकृति के हिसाब से फेशियल मास्क,सीरम,टोनर और क्रीम लगाई जाती है.सैलून फेशियल का उद्देश्य केवल क्लींजिंग  और त्वचा की अशुद्धियों को दूर करना होता है.लेकिन यह त्वचा की समस्या का समाधान नही करते है.सैलून फेशियल को आमतौर पर 17-18 साल की उम्र के बाद ही कराना चाहिए.

क्लिनिक फेशियल:-इस फेशियल का परिणाम सैलून फेशियल के मुकाबले स्थाई और बहुत लंबा समय तक प्रभावी रहता है.यह फेशियल 35 साल की उम्र के बाद ही करवाना सही रहता है.क्योंकि इसी उम्र में त्वचा पर झुर्रियां और बारीक रेखाएं आनी शुरू होती है.इस प्रकार का फेशियल करवाने से पहले त्वचा के डॉक्टर त्वचा की जाँच करते है और उसके हिसाब से आपको दिया जाने वाला ट्रीटमेंट तय करते है.हलाकि सैलून फेशियल की तुलना में क्लिनिक फेशियल काफी महंगे होते है.लेकिन ये ज्यादा विश्वसनिय माने जाते है.यदि आप एक्ने,स्किन,एलर्जी ,रैशेज या अन्य किसी प्रकार के त्वचा संभधी रोग से परेशान है.तो ऐसे में क्लिनिक फेशियल करवाना ही बेहतर रहता है.इस फेशियल से आपकी त्वचा की गुणवत्ता सुधरेगी और त्वचा संभंधि परेसानी भी दूर होगी.

सावधानी भी है जरूरी

आमतौर पर सामान्य त्वचा के लिए महीने में एक बार फेशियल लेना ठीक रहता है,लेकिन संवेदनशील त्वचा हिने पर दो महीने में एक बार फेशियल लेना ही ठीक रहता है.सैलून में फेशियल लेते समय इस बात का धयान रखना चाहिए की वहाँ का स्टाफ अनुभवी हो और वहाँ साफ-सफाई हो.फेशियल के दौरान त्वचा के सारे रोमछिद्र खुल जाते है.और ऐसे में अच्छे कॉस्मेटिक का इस्तेमाल करना बेहद जरूरी है.साफ तौलिया ,साफ हाथ और साफ सुधरे उपकरण की भी इस मामले में अहम भूमिका होती है.इसमे चूक होने पर चेहरे कि त्वचा पर संक्रमण  होने का खतरा भी हो सकता है.इसी प्रकार क्लिनिक में फेशियल करवाते समय सस्ते के चक्कर में ना पड़े.फेसियल के द्वारान् त्वचा कई तरह के ट्रीटमेंट से गुजरती है.अगर स्टाफ अनुभवी ना हो तो इसका नकारत्मक असर त्वचा पर भी पड़ सकता है.क्लिनिक में फेशियल करवाते वक्त त्वचा रोग के विशेषज्ञ ही हर चीज तय करते है.बेहतर होगा की ऐसा कोई फेशियल लेने से पहले आप एक पैच टेस्ट जरूर करवा ले.जिसमे हाथ या चेहरे के छोटे से हिस्से पर इस्तेमाल किये जाने वाले कॉस्मेटिक की प्रतिक्रिया जाँची जाती है.यदि पैच टेस्ट में किसी प्रकार की असुविधा या कोई खास प्रतिक्रिया न हो,तभी इस प्रकार के फेशियल के लिए आगे बढे.

घर पर कैसे करे फेशियल.

यदि आपके पास सैलून या क्लोनिक में जाकर फेशियल कराने का समय नही है.तो आप घर पर ही मिनी फेशियल कर सकती है.हालांकि घर के फेशियल से आपको बाजार जैसे परिणाम और संतुष्टी तो नही मिलेगी,लेकिन इसमे आपके चेहरे की त्वचा काफी हद तक निखर और चमक जायेगी.इसके लिए चेहरे को 5 से 10 भाप देने के बाद किसी माइल्ड स्क्रब से हाथो को गोल घुमाते हुए हल्का मसाज करे.इसके बाद पानी से मुँह धोकर किसी अच्छी तरह से मसाज करे और अंत में फेसपैक लगाकर उसके सूखने का इंतेजार करे.फेसपैक सूखने के बाद चेहरे अच्छे तरह धो ले.

फेशियल के बाद की सावधानियां

  1. फेशियल के तुरंत बाद चेहरे पर न तो साबुन लगाये और न ही कोई अन्य कॉस्मेटिक लगाएं.
  2. चेहरे को बार बार न छुए.
  3. तेज़ धुप में न निकले.
  4. अच्छी गुणवत्ता की सनस्क्रीन लोशन प्रयप्त मात्रा में लगाये.
  5. जिम में जाकर पसीना न बहए.
  6. कम से कम एक हफ्ते तक स्क्रब न करे.
  7. फेशियल के तुरंत बाद बहुत ज्यादा मेकअप न करे.

आप भी अगर फेशियल करवाना चाहते है तो आपको समज मे आ गया होगा की आप अपने फेस का ध्यान कैसे रख सकेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here